05 March, 2022

पुस्तक समीक्षा हिंदी में कैसे लिखे || How to Write Book Review in Hindi || पुस्तक समीक्षा क्या है और पुस्तक समीक्षा कैसे लिखी जाती है

पुस्तक समीक्षा हिंदी में कैसे लिखे || How to Write Book Review in Hindi || पुस्तक समीक्षा क्या है और पुस्तक समीक्षा कैसे लिखी जाती है 

पुराने जमाने के कोई पुस्तक प्रकाशित होती थी तो उसका सार भी प्रकाशित किया जाता था और सार की चर्चा करने के बाद भी जाना जाता था की ये पुस्तक कितनी प्रेरणादायी है | पुस्तक मानव जाती का सबसे अच्चा मित्र मन जाता है और वो परम मित्र कभी साथ नही छोड़ता | इसलिए पुस्तक जैसे परम मित्र (books is best friend ) अवश्य बनाना चाहिए |

SURESH LIMBACHIYA

पुस्तक समीक्षा (Book Review ) क्या है |

पुस्तक समीक्षा पुस्तक में लिखी और प्रदर्शित की गयी विचारधारा का सारांश है सार है पुस्तक किस विषय उपर लिखा गया है जीसमे लेखक का क्या योगदान है साथ साथ पुस्तक की खूबिया एवम कमियाँ दर्शाती है |

कोई भी पुस्तक की समीक्षा (book review in Hindi) करते वक्त निम्न बातो का ध्यान रखना चाहिए :-

१. पुस्तक की शोर्ट समरी (short summary) – सारांश

२. लेखक का योगदान

३. पुस्तक का विचार विस्तार

४. पुस्तक सामग्री का सूक्ष्म मूल्यांकन (critical evaluation of book)

पुस्तक समीक्षाकर्ता (book reviewer) के मुताबिक आप उपरोक्त दिए गये ४ बिन्दुओको ध्यान में रखते हो तो आप सही तरह से book review in Hindi करते है वेसा माना जायेगा |

पुस्तक समीक्षा (book review ) को हिंदी में कैसे लिखें | (How to write book review in Hindi)

अगर आप प्रोफेशनल पुस्तक समीक्षाकर्ता (book reviewer) बनना चाहते है तो आपको भुत सारी अच्छी पुस्तके नियमित रूप से पढनी चाहिए साथ साथ पुस्तक में किस विचार पर बात की गयी है विचार निर्देश किस बात पर किया जा रहा है उसको जानना चाहिए |

पुस्तक की समीक्षा करें (book review in Hindi) - पुस्तक की short sumary करे |

आप अच्छे एवं प्रोफेशनल पुस्तक समीक्षाकार (book reviewer) बनना चाहते है तो आप एकदम शोर्ट एवं स्वीट समीक्षा लिखे | लेखक ने पुस्तक में क्या विचार पर ध्यान दिया है साथ साथ इंडेक्स में दी गयी मुख्य टोपिक पर शोर्ट में लिखना चाहिए | पुस्तक में बारे में पॉजिटिव लिखे लेकिन शुरुआत करते वक्त मोटिवेशन बातो पर भी ध्यान देना चाहिए |

पुस्तक की पॉजिटिव बाते बताएं |

book review in Hindi लिखते वक्त शुरुआत छोटी बातो को समजने का प्रयत्न करे एवं लेखक द्वारा निर्मित विचारो के सूक्ष्म भावो से दर्शाना चाहिए एवं विचार व्यक्त करते समय पुस्तक के लेखनकर ने क्या और कैसे विचारो पर पर्दाफाश किया है वह बताने का प्रयत्न करना चाहिए |

पुस्तक समीक्षा (book review in Hindi) करते वक्त किस बातोँ का ध्यान रखना चाहिए |

१. पुस्तक में सबसे अच्छा किरदार कीस पात्र का है

२. क्या सब किरदार जीवित है क्या

३. क्या यह कहानी वाचक की पकड़ पायेगी क्या

४. पुस्तक में सबसे अच्छा कोन सा है

५. पुस्तक में सबसे अच्छा हावभाव हसने का है की रोने का है

पुस्तक समीक्षा (book review in Hindi) को round up करें |

आपने जिस पुस्तक का रिव्यु लिखा है उसको आप सभी तरह से round up करे क्यों की इसी अभिव्यक्ति से वाचक को पुस्तक के अंत तक पकड़ के रखता है | कहा जाता है की छोटी छोटी बातो का ध्यान रखने जाने से पुस्कक की दिलचस्पी बढ़ाने में मदद मिलती है |

THE FLOATING POST

पुस्तक समीक्षाकार बनने की क्या लाय्कत (Qualification) होती है |

पुस्तक की समीक्षा करने के लिए या पुस्तक की समीक्षाकार बनने के लिए कोई लायकात की जरुरत नही है मगर ज्ञान की तगड़ी जरूरत होती है | अगर आप विशेषज्ञ पुस्तक समीक्षक बनना चाहते है तो आपको ज्यादा से ज्यादा पुस्तके पढनी चाहिए साथ साथ मुफ्त में पुस्तक की समीक्षा करना चाहिए जिससे आपका ज्ञान बढ़ेगा साथ साथ आपको रूचि में बढ़ावा होगा |

पुस्तक समीक्षा हिंदी में कैसे लिखें – निष्कर्ष ( How to write a book review in Hindi – टॉप Conclusion )

पुस्तक समीक्षा करना एकदम आसन है लेकिन किताब में व्यक्त किये गये विचारो को सुक्ष्म बनाके अभिव्यक्त करना महत्वपूर्ण है | साथ साथ लेखक के विचारो को वाचक तक पहुंचाते वक्त जीवनभर मोटीवेट करना महत्वपूर्ण है |

No comments:

Post a Comment

My eBooks

Monthly Popular Posts

My Reference eBook